अयाज मेमन की कलम से / आईपीएल में अब भारतीय खिलाड़ियों पर फोकस का समय

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में ये हफ्ता काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा। लीग के शुरुआती चरण में लगातार 6 मैच हारने के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) ने कमबैक किया और लगातार 3 मैच जीते। वहीं, लीग की ताकतवर टीमों में शुमार चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) और कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) के लिए ये वक्त अच्छा नहीं रहा। 

कई उतार-चढ़ाव के बावजूद चेन्नई टॉप पर काबिज

  1. दोनों टीमों को अपने होमग्राउंड तक पर हार का सामना करना पड़ा। हालांकि, इन नतीजों के बाद भी आरसीबी अभी टेबल में आखिरी पायदान पर ही है और सीएसके टॉप पर काबिज है। लीग से तमाम ओवरसीज खिलाड़ियों की घर वापसी हो चुकी है। फोकस अब भारतीय खिलाड़ियों पर ही है।
  2. इन सबसे इतर, इस हफ्ते का एक और बेहद रोचक किस्सा रहा। ये किस्सा राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेल रहे युवा रियान पराग से जुड़ा है। बचपन में पराग की महेंद्र सिंह धोनी के साथ वाली फोटो खासी सुर्खियों में रही। इसके अलावा पराग के पिता भी असम के लिए रणजी खेल चुके हैं। पराग के पिता को एक मैच में धोनी ने स्टम्प भी किया था। 
  3. अब पराग आईपीएल में धोनी के खिलाफ खेल रहे हैं। पराग ने केकेआर के खिलाफ अपने प्रदर्शन से सबको प्रभावित किया। यहां से ये देखना रोचक होगा कि युवा पराग का करियर किस तरह आकार लेता है। उनके और हर युवा खिलाड़ी के लिए खेल को समझने का सबसे बड़ा जरिया खुद धोनी ही हैं, जिनका खेल देखकर, उनसे बात कर काफी कुछ सीखा जा सकता है।
  4. युवा खिलाड़ियों के लिए एक स्तर तक उभरने के बाद भी अपना प्रदर्शन और चमक बरकरार रखना बहुत बड़ी चुनौती होता है। अगर इस बीच कोई ऐसा खिलाड़ी है, जिसने करीब 15 साल तक इंटरनेशनल क्रिकेट खेली है, काफी समय तक कप्तानी भी की है, तो यकीनन उस खिलाड़ी में काफी प्रतिभा के साथ-साथ गजब की मानसिक मजबूती भी होगी।
  5. 2004 में डेब्यू करने से अब तक धोनी ने अपने प्रदर्शन और व्यक्तित्व से प्रभावित किया है। उनका छोटे शहर से निकलकर आना उन्हें लोगों का और भी पसंदीदा बनाता है। युवा खिलाड़ी उनसे काफी-कुछ सीख सकते हैं। वर्ल्ड कप में भी धोनी ना सिर्फ भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर, भरोसेमंद बल्लेबाज होंगे, बल्कि टीम के मजबूत स्तंभ भी रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *