महाराष्ट्र / जेट एयरवेज के कर्मचारी ने आत्महत्या की, पुलिस ने कहा- डिप्रेशन में था

मुंबई. पालघर जिले के नालासोपारा इलाके में रहने वाले जेट एयरवेज के एक कर्मचारी ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस का कहना है कि वह कैंसर पीड़ित था। पहली नजर में ऐसा लग रहा है कि बीमारी के चलते वह डिप्रेशन में था। 8 हजार करोड़ के कर्ज संकट से गुजर रही जेट एयरवेज ने अपने सभी ऑपरेशन बंद कर दिए हैं। कर्मचारियों को महीनों से वेतन नहीं मिल पा रहा है।

जेट के स्टाफ ने कहा- आर्थिक संकट से गुजर रहा था शैलेश

  1. पुलिस के मुताबिक, शैलेश सिंह (45) एयरलाइंस में सीनियर टेक्नीशियन के पद पर तैनात था। उसकी कीमो थैरेपी चल रही थी। उसने नालासोपारा पूर्व स्थित अपने चार मंजिला मकान की छत से कूदकर आत्महत्या कर ली। 
  2. जेट के स्टाफ और कर्मचारी एसोसिएशन का कहना है कि वह आर्थिक परेशानी से जूझ रहा था, क्योंकि कर्मचारियों को हटा दिया गया है और कई महीनों से वेतन भी नहीं दिया गया। 
  3. जेट के सभी ऑपरेशन बंद होने के बाद किसी कर्मचारी की आत्महत्या का यह पहला मामला है। शैलेश का बेटा भी एयरलाइन के ऑपरेशन डिपार्टमेंट में काम करता है। उनकी पत्नी, दो बेटे और दो बेटियां हैं। 
  4. जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने जंतर-मंतर पर निकाला कैंडल मार्चकर्ज संकट से जूझ रही एयरलाइन जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने शनिवार शाम नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर कैंडल मार्च निकाला। कर्मचारियों ने सरकार से एयरलाइन को बचाने की माँग की। प्रदर्शन में कंपनी के दो सौ से ज्यादा कर्मचारी अपने परिवार के साथ शामिल हुए। सभी की बाजुओं पर जेट एयरवेज को बचाने की अपील वाली पट्टियां लगी थीं। एक पायलट ने कहा कि एक तरफ सरकार कौशल भारत की बात करती है और दूसरी तरफ 22 हजार कुशल कर्मचारी बेरोजगार होने की कगार पर हैं। सरकार चुनाव में इतनी व्यस्त है कि इतनी बड़ी एयरलाइन को मरने दे रही है।
  5. एयरलाइन के सीईओ ने कर्मचारियों को वेतन के संबंध में लिखा था पत्रएयरलाइन के सीईओ विनय दुबे ने कर्मचारियों को वेतन के संबंध में पत्र लिखा था। दुबे ने लिखा- हम लगातार बैंकों को कर्मचारियों की स्थिति के बारे में बता रहे हैं। हमने उन्हें कहा है कि यदि ऐसे हालात ज्यादा दिनों तक बने रहते हैं तो कर्मचारियों के सामने कोई और नौकरी ढूंढने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *