मुस्लिम युवक से कहा- इस इलाके में टोपी पहनकर आना मना है, जय श्री राम नहीं कहने पर की पिटाई

बरकत आलम भी रविवार की रात सदर बाज़ार, गुरुग्राम की जामा मस्जिद से तराबीह पढ़कर लौट रहा था. बरकत का आरोप है कि इसी दौरान एक बाइक पर आए चार युवक और वहां से पैदल गुजर रहे दो अन्य युवकों ने उसे रोक लिया.

Hillview samachar Updated: May 27, 2019, 10:09 AM IST

मुस्लिम युवक से कहा- इस इलाके में टोपी पहनकर आना मना है, जय श्री राम नहीं कहने पर की पिटाई

रमज़ान (रोज़े) में देर रात तक मस्जिदों में तराबीह (खास नमाज़) पढ़ी जाती है. बिहार के बेगूसराय का रहने वाला बरकत आलम भी रविवार की रात सदर बाज़ार, गुरुग्राम की जामा मस्जिद से तराबीह पढ़कर लौट रहा था. बरकत का आरोप है कि इसी दौरान एक बाइक पर आए चार युवक और वहां से पैदल गुजर रहे दो अन्य युवकों ने उसे रोक लिया.

आलम के मुताबिक, वो लोग उसके पहनावे और सिर पर लगी टोपी पर टिप्पणी करने लगे. साथ ही कहा कि इस इलाके में टोपी पहनकर आना मना है. जब बरकत ने इसका विरोध किया तो उसके साथ मारपीट की. जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए कहा. इसी क्रम में उस लड़के के साथ मार-पीट भी की गई. बीच सड़क कहासुनी होती देख अन्य लोग भी रुक गए.

उन्होंने आरोपियों को रोकने की कोशिश की. भीड़ बढ़ती देख आरोपी मौके से फरार हो गए. सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. पुलिस इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद से आरोपियों की पहचान करने में जुटी हुई है. सिटी थाना पुलिस ने देर रात पीड़ित का बयान दर्ज कर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया.

लोगों से बातचीत के आधार पर पुलिस का कहना है कि आरोपी शराब के नशे में थे. पीड़ित युवक का इलाज कराने के बाद उसे घर भेज दिया गया है. जिस वक्त ये घटना घटी बाज़ार पूरी तरह से बंद हो चुका था. घटना के पास में ही शराब का ठेका भी है. पीड़ित का कहना है कि वह यहां सिलाई का काम सीख रहा है.

हरियाणा में इस तरह की ये कोई पहली घटना नहीं है. 20 अप्रैल 2018 को वज़ीराबाद में नमाज़ पढ़ने को लेकर विवाद हुआ था. खांडसा में एक मुस्लिम युवक की दाढ़ी काट दी गई थी. वहीं इसी साल होली के मौके पर एक मुस्लिम परिवार के घर पर कुछ लोगों ने हमला कर तोड़फोड़ और मारपीट की थी. जिसका वीडियो खासा वायरल हुआ था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *